Sahjan Ki Kheti Kaise Kare 2024

Comments · 103 Views

Sahjan Ki Kheti Kaise Kare 2024 | Drumstick Cultivation in Hindi | सहजन की खेती कैसे करे

Sahjan Ki Kheti :-सहजन को एक बहुवर्षीय सब्जी देने वाले पौधे के रूप में जाना जाता है | गावो में सहजन का पौधा बिना किसी विशेष देखभाल के ही किसानो द्वारा अपने घरो के पास लगाया जाता है |

बाजारों में सहजन के फूल, छोटे-छोटे सहजन से लेकर बड़े सहजन के फलो का अच्छा मूल्य प्राप्त हो जाता है | दक्षिण भारत के लोगों की बात करें तो वहां के लोग बांसुरी के फूल, फल और पत्तियों का इस्तेमाल साल भर विभिन्न सब्जियों के रूप में करते हैं।

Sahjan Ki Kheti कैसे करे (Sahjan Ki Kheti Hindi)

Sahjan Ki Kheti रोपाई सभी बातों को ध्यान में रखकर की जाती है, इसके लिए आपको कुछ बातों का पालन करना होगा, ताकि आप अच्छी खेती कर सकें और अच्छे परिणाम प्राप्त कर सकें, सहजन की रोपाई का उचित तरीका इस प्रकार है:-

Sahjan Ki Kheti के लिए उपयुक्त जलवायु (Sahjan Cultivation Suitable Climate)

 

इसकी खेती के लिए औसत तापमान 25-30 डिग्री आदर्श माना जाता है. इस तापमान में पौधे पनपते हैं। यह पाले को आसानी से सहन कर लेता है, लेकिन सर्दी इसके पौधों को नुकसान पहुंचाती है। इसके पौधों में फूल आने के दौरान तापमान 40 डिग्री से अधिक होने पर फूल आने का खतरा रहता है. इसके पौधों पर अधिक वर्षा का कोई प्रभाव नहीं पड़ता है. यह एक दृढ़ पौधा है, जो विभिन्न परिस्थितियों में उगता है।

Sahjan Ki Kheti के लिए उपयुक्त मिट्टी (Sahjan Cultivation Suitable Soil)

Sahjan Ki Kheti के पौधे किसी भी मिट्टी में उगाए जा सकते हैं. यह खरपतवार, बंजर और यहां तक ​​कि चारकोल युक्त मिट्टी में भी आसानी से उगता है, लेकिन साल में दो बार सहजन की लंबी अवधि की रोपाई के लिए यह आवश्यक है कि यह रेतीली मिट्टी हो, जिसका पी.एच. मान 6-7.5 के बीच होना चाहिए.

सहजन की उन्नत किस्मे (Drumstick Improved Varieties)

सहजन की फसल को वर्ष में दो बार प्राप्त करने के लिए मौजूदा उन्नत किस्मे :- पी.के.एम.1, पी.के.एम.2, कोयंबटूर 1 व् कोयंबटूर 2 है| इन किस्मो में उगने वाले पौधे 4-6 मीटर ऊंचे तथा इसमें 90-100 दिनों में फूल देने लगते है| इसकी विभिन्न अवस्थाओं में आवश्यकतानुसार तुड़ाई की जा सकती है| इसके पौधों में फलो तो तैयार होने में 160-170 दिन का समय लगता है| इसमें एक वर्ष में 65-170 दिनों में फल तैयार हो जाते है|

सहजन का एक वर्ष का पौधा तक़रीबन 65-70 सें.मी. लम्बा तथा औसत 6.3 सेंमी मोटा होता है, जिसमे एक पौधे से तक़रीबन 200-400 फल (40-50 किलोग्राम) की फसल तैयार हो जाती है |

यह अधिक गूदेदार फल होता जिसे पकाने पर 70 प्रतिशत भाग खाने योग्य हो जाता है | इस किस्म के पौधों से 4-5 वर्षो तक पड़ी की फसल को प्राप्त किया जा सकता है | फसल को प्राप्त करने के बाद पौधों को जमीन से एक मीटर की ऊंचाई से काटना चाहिए |

 

सहजन के बीज की रोपाई (Drumstick Cultivation Seed Planting)

Sahjan Ki Kheti की फसल में बीजो की रोपाई के लिए शाखा के दोनों टुकड़ो का प्रबर्द्धन करना चाहिए | वर्ष में दो बार फसल को प्राप्त करने के लिए बीज से प्रबर्द्धन करना उपयुक्त माना जाता है | एक हेक्टेयर खेत में लगभग 500 ग्राम बीज बोना चाहिए. गड्डो में रोपण से पहले बीजों को एक महीने के लिए पॉलिथीन बैग में तैयार किया जाना चाहिए। इसके बाद इन्हें तैयार गड्डो में रोपना चाहिए.

Sahjan Ki Kheti के पौधों की सिंचाई (Drumstick Plants Irrigation)

अच्छी फसल के लिए सिंचाई लाभकारी है। गड्डो में अंकुरण बनाए रखना और बीज का उचित स्थापना करना बहुत महत्वपूर्ण है। जब पौधों में फूल आने लगते हैं तो सिंचाई की आवश्यकता नहीं होती या किसी भी स्थिति में पौधे से फूल गिरने का खतरा रहता है।

Sahjan Ki Kheti के फलो की तुड़ाई और पैदावार (Drumstick Harvesting and Yield)

सहजन के उन्नत किस्म के पौधे वर्ष में दो फल देते है, जिनकी तुड़ाई फ़रवरी-मार्च और सिंतम्बर-ऑक्टूबर के माह में की जाती है सहजन का प्रत्येक पौधा एक वर्ष में लगभग 40-50 किलोग्राम उपज देता है। बाज़ार की स्थितियों के आधार पर, इसके पौधे की फ़सल 1-2 महीने तक चलती है। सहजन की बाजार कीमत भी अच्छी है, इसलिए किसान इसकी कटाई से अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं।

 Barhamasi Nimbu Ki Kheti 2024

FaQ

Q.सहजन का पेड़ कितने दिन में तैयार हो जाता है?

Ans.160-170 दिनों में फल तैयार हो जाता है।

Q.सहजन की सबसे अच्छी किस्म कौन सी है?

Ans.कोयंबटूर 2, रोहित 1, पीकेएम 1 और पीकेएम 2

Q.सहजन का पेड़ कब लगाया जाता है?

Ans.जून से लेकर सितंबर तक

 

Sahjan Ki Kheti Kaise Kare 2024 | Drumstick Cultivation in Hindi | सहजन की खेती कैसे करे किसान भाइयो अगर आप Jagokisan.com द्वारा दी गई जानकारी से संतुष्ट है तो plz like करे और शेयर करे ताकि किसी दूसरे किसान भाई की भी मदद हो सके|

Comments